Archive | Daniel

RSS feed for this section

Live class audio on Daniel chapter 11:31 to 12:13

man on horseIn Texas in October I was able to complete the final live class in the series I’ve been doing with Sunday school friends there on the book of Daniel. The live class audio on Daniel 11:31 to 12:13 can be heard here.

With all the fears and foolishness that weigh on our weary world in these times, it’s still a thrill to delve into God’s Word and get “back to the future” of what Bible prophecy tells us will be how things will all end up. I personally am looking forward to not another change of regimes of earthly governments but the literal setting up of the Kingdom of God on earth. Yes, I’m “millenary”. And for all of us who know and believe in God and His Son Jesus, we all ought to be having the same hope and vision of the future to come: His return to save us from the mess this world is increasingly becoming under unregenerate, renegade mankind.

It was actually difficult to get through this class because so many of these verses are just outstanding and drenched in significance for those of us in these times. This is particularly true of Daniel 12: verses 1 through 4. But many other verse in the classes could have used much more attention that we were able to give them in the time we had. For example Daniel 12:1 seems to be important enough that it was paraphrased by Jesus in Matthew 24:21 and Mark 13:19.

Daniel at deskDaniel 12:1 says, “And at that time shall Michael stand up, the great prince who stands for the children of your people. And there shall be a time of trouble such as never was since there was a nation, even to that same time. And at that time your people shall be delivered, every one that shall be found written in the book.

As we got into chapter 12, we saw that the dialogue changes and it goes back to how it was in chapter 10 with the conversation back and forth between Daniel and the angel or angels. In chapter 10 the angels were just barely able to get Daniel strengthened enough to be able to handle the incredible truth that was to be shared with him. But then by chapter 12, Daniel was so invigorated by his experience then that the angel had to tell him “Go your way, Daniel.” (Daniel 12:9) Daniel still had a stout heart, even if his flesh was beginning to flag in his 80’s by then.

And I’ll just mention that I was glad it worked out in the class to make it through to the last 3 verses in chapter 12. Because they are some of the more surprising in the book of Daniel and seem to segue into events beyond the second coming of Jesus, giving us a glimpse beyond the period beyond the last 7 years and especially the last 3½ years that the messages Daniel received focus on so much.

But I won’t give it all away here. It was an inspiring time and I personally was having a really good time sharing the class with my friends as it’s a subject that is very dear to my heart. I hope you’ll be able to listen to the class. And please do pray for me that I’ll be able to complete videos on these last 3 chapters in Daniel, hopefully within the next year. GBY, the live class audio on Daniel 11:31 to 12:13 can be heard here.

Daniel 11: verses 1 to 35 live class audio

Daniel at desk for D9 blog postWe continued, last Sunday, the Bible study I’ve been doing with friends at an adult Sunday school class on the book of the prophet Daniel. This time we went over perhaps the most difficult but also significant passage in Daniel, chapter 11. I took some time in prayer the night before to really look to the Lord about the class and to try to find the best approach in sharing it. The live class audio on Daniel 11: verses 1 to 35 can be heard here.

D11 picture of angel touching DanielThe three last chapters in Daniel seem to be one continuing event, unlike the other chapters before them. So Daniel 11 picks up the narrative from Daniel 10 of what happened next after Daniel’s incredible experience with an angel or possibly angels who had a real job on their hands in strengthening Daniel sufficiently enough to be able to receive this final mighty revelation in the book.

In prayer the night before the class, the Lord laid it on my heart to start out by stepping back a bit at the beginning in order to try to share with the ones in class what are actually the most important pillars that make up the framework of yet-to-be-fulfilled Bible prophecy. I won’t go into the details here but we started out with the greatest Teacher of them all, the Lord Himself. When asked about His second coming, Jesus gave three very distinct points of importance. Those can be found in Matthew 24:15, 21 and 29-31. I went over these before in the video on Daniel 9:27, how that they could be boiled down to “When…”, “Then…” and “Immediately after…”.

And we saw from Matthew 24 that Jesus clearly and emphatically pointed us back to something in the book of Daniel , telling us “whosoever reads, let him understand”. (Matthew 24:15) And what Jesus was pointing us to is found most clearly in Daniel 11:31, from the chapter we went over on Sunday. Well, if I get into too much detail here, it will become quite a long blog post. But I’ll add the four other pillars of prophecy that I shared with the class on Sunday: Daniel 8:11, Daniel 9:27, II Thessalonians 2:3 & 4 and Revelation 13:5-7.

I’m very aware that for some people this can just be too much. Bible prophecy is not everyone’s cup of tea. I think the Lord has to bring it to someone’s attention and show them the importance of it. Otherwise it can seem tedious and just too difficult to understand. So I’ve really tried in these classes to break it down to bite-sized pieces as much as possible and to continue to aim at those who are new to the subject, rather than the ones who’ve been studying it for years.

Also in working on this Daniel 11 class, I realized again that the best way to present this is in the format I’ve used for the videos on the prophecies of Daniel series. The live class format, like on Sunday, has the advantage of spontaneity and the interaction that goes on between the teacher and the class. But for this chapter, the material is so meaty and yet so significant that I’ve been realizing that Daniel 11 really needs to have a class that is scripted beforehand so that the very best way can be found to present the chapter to the general public.

When I read again the buildup to Daniel chapter 11 that was to been found in Daniel 10, the effort in prayer by Daniel and the effort in the spirit by the angels, as well as the opposition of Satan to this message even getting through, it was even clearer that this is an incredibly important part of the prophetic picture that God has given to us in His Word. And to top it off, Jesus Himself points us to this chapter.

For now, this live class audio hopefully will be a blessing to those who are ready for this rather advanced Bible prophecy class. And this has also been a tug on my heart to try to get the last 3 chapters in Daniel into video classes at some point in, hopefully, the not too distant future. The live class on Daniel 11, verses 1 to 35 can be heard here.

Daniel chapter 10 live class audio

Mighty Angel pictureLast Sunday I shared a class on Daniel chapter 10 with an adult Sunday school group I attend in Austin, Texas. I made an audio recording of the class and an edited 35 minute version of it can be heard here. In the class we have been going through the prophets in the Old Testament and they wanted me to do the prophetic chapters in Daniel. We completed those chapters through Daniel 9 and the Sunday before we watched the video I did in 2014 on Daniel 9:27. As some of you know, Daniel 9:27 is one of the most important verses in the whole book of Daniel and, perhaps it could be said, in the whole Old Testament.

I’ve often shared in my video classes what Jesus said in Matthew 24 when He was asked about His return.Matthew 24 21-a for blog post One of the most pivotal verses in the chapter is Matthew 24:15 where Jesus said, “When you therefore shall see the abomination of desolation, spoken of by Daniel the prophet, standing in the holy place, whoso reads, let him understand.

And He went on to say in verse 21 that “For then shall be great tribulation, such as was not since the beginning of the world”. But what exactly is Jesus referring to there in Matthew 24 that we should read in the book of Daniel? It seems this is not too often spoken about or pursued, even though the Lord put so much emphasis on it.

The video on Daniel 9:27 explains about this a good deal. But specifically, the clearest verse on this is found in Daniel 11. And as we found in our class on Daniel 10 last Sunday, the last 3 chapters in Daniel, 10, 11 & 12, seem to be all one event, unlike the first 9 chapters. The narrative flows from one chapter to the next in these last three. It seems that since it was all so much longer than the other narratives, the people back in the 1600’s or 1500’s who divided the Bible up into chapters and verses made this section into 3 chapters.

Actually, this is not specifically a prophetic chapter. But Daniel chapter 10 sets the stage for the archangel Michael’s message to Daniel in chapters 11 and 12. And it contains one of the most amazing glimpses in the Bible into the spiritual world and the battles going on there between the angels of God and the demons of hell.

Daniel tells us that he had been fasting for 21 days. In the class we took note of the fact that almost certainly Daniel was well into his 80’s by this time. Michael the archangelThen appeared to him an angel in all his glory to speak to him and bring a message to him about the future. It doesn’t say definitively who this angel is but my thought has always been that this was Gabriel, as he was the angel coming to Daniel in earlier chapters.

But then the angel explains that he had been hindered in answering Daniel’s prayer because “the prince of Persia withstood me 21 days. But then Michael, one of the chief princes, came to help me.” (Daniel 10:13) What an incredible flash of revelation into the behind-the-scenes workings of the spiritual world. A demon prince had fought against this angel getting his message through to Daniel until Michael, the archangel, came and intervened to turn the tide to the favor of the Lord’s will and His servant, Daniel.

It’s just an incredible chapter and vividly visual. Hopefully someday I can make a video of this one and continue the prophecies of Daniel video series. Meanwhile, here’s the link to the 35 minute audio of the class we had on Daniel 10 last Sunday. I hope it’s a blessing to you.

Your friend, Mark

“No man knows the day and hour”

no man knows flatIf you are a student of the future events predicted in the Bible, you’ve almost certainly heard the verse quoted, “No man knows the day and the hour” (Matthew 24:36). My experience is that this is often brought up by folks who want to negate the revealed plan of the future that Bible prophecy presents. And I suppose a light reading of that verse could persuade some people to look at things that way. In other words, “No man knows the day and hour” so therefore “Forget about the whole thing! Don’t even try to understand it.” Or so they say.

why try flatBut I don’t think that’s the meaning or the intent the Lord had. For one, I certainly agree with the verse that, at that time and probably for now, no man knows the day and the hour of the Lord’s return. For one, back then, they didn’t need to know that because that wasn’t the main thing that was happening right then. Jesus Himself was the one Who said that no man knew the day and hour of His Return. He said this near the end of His ministry on earth, before His crucifixion. His return was still far off in the future. Also, if we just take literally what Jesus said, He said that no man knows the day and the hour of his coming. But that doesn’t mean that at some point in the future we will know perhaps the year, the month or even the week of His coming.

Revelation 11 3D-d for D9 blog postWhy do I say that? If you’re a student of prophecy, one of the most often-prophesied events in the Bible is the coming 3½ years of “Great Tribulation” that Jesus Himself spoke of. (Matthew 24:21). This three and a half year period is also mentioned in Daniel chapters 7 and 9 and extensively throughout Revelation. Over and over again we’re told about this period of “42 months”, “1260 days” and “time, times and half a time”.

Matthew 24 21-a for blog postThe Lord doesn’t waste His Words. This wasn’t put there for effect. While I believe that we won’t know the specific hour of the Lord’s coming, it is one of the clearest subjects of Bible prophecy that this period of 3½ years will come. Even the specific sign of the beginning of this 42 months is pointed out by Jesus Himself. In Matthew 24:15 and 21, He said, “When you see the abomination of desolation, spoken of by Daniel the prophet, standing in the Holy Place….then will be great tribulation, such as was not since the beginning of the world to this time…”. I’ve made a video specifically on this subject of the Great Tribulation that Jesus spoke of and which is revealed in Daniel. The video can be seen here.

At the time of Jesus, no man knew the day and the hour. But the people of the future will be able to have a pretty good idea of how much time there is left, those ones who will pass through the last years and months before the Lord’s return.

Why? Why would the Lord want anyone to know when He was coming back? I believe there are several reasons. For one, it’s going to be a time of tremendous hardship for believers and worshipers of the God of Abraham. But for those who know these verses in the Bible, it will be an anchor of their faith that it’s only for an appointed time, that it will have an end and that end will be the Lord’s coming.

few more months flatAlso it will be something that can be used as a witness to the waverers and the undecided. When the believers in God can tell the undecided what is going on, that it’s the time of the Antichrist and that all those things have been predicted for centuries, it will be a witness and testimony to millions. That’s why it says in Daniel 11:33 “And they that understand among the people shall instruct many”. This comes only two verses after the verse that Jesus Himself pointed to in Daniel when He was teaching about the time before His coming, Daniel 11:31.

The Pact flatYes, “No man knows the day and the hour”. No one knew it at the time Jesus said that and no one knows it right now. But I believe that there will be those of us in the last 3½ years before His return or even in the last 7 years before His return, who will have a pretty good idea of the year, the month and perhaps even the week of the Lord’s return. And it will be a tremendous help and blessing to know that as the believers at that time will face troubles unparalleled in history.

So if someone tells you “No man knows the day and the hour”, don’t let that rattle your faith. Know what the Word says and what is repeated again and again in Daniel and Revelation about the specifics of the Last Days. Then you’ll be strong, prepared and you can “instruct many”. (Daniel 11:33)

“Famous Failures of Prophetic Interpretation”

Manor house & people new try YouTube front page-flattenedI guess everyone has heard about times in history when someone has pointed out something they thought was just about to happen, because they felt Biblical prophecy was just about to be fulfilled. That happened one time as a direct result of misunderstanding something that’s in Daniel chapter 8.  (This article is the text of a video on this subject. The video can be seen here.)

The 1840’s was a time of tremendous change. The Industrial Revolution was changing the order of society as it had been for many hundreds of years. Science was making tremendous strides in understanding God’s creation. And politics and nationalism were bringing huge change around the world.

One new religious movement at that time saw the changes going on as a sign of the soon coming of God’s Kingdom on earth. This group often talked about the return of Jesus. And you could say, “Well, Mark, that sounds a good deal like what you’re doing.” And you might be right. So, I’m sharing this with you as a warning in some ways, both to you and to me. Because, as much as I believe in prophecy, I also know it’s possible to misinterpret things in the Bible.   So this group, back in the 1840’s, looked at some of these verses we’ve been reading, specifically Daniel 8:13 and 14, which say

Then I heard one saint speaking; and another saint said to that certain one who spoke, “How long will be the vision, concerning the daily sacrifice and the transgression of desolation, to give both the sanctuary and the host to be trampled underfoot?” And he said to me, “Unto two thousand three hundred days; then the sanctuary shall be cleansed.”

These verses are rather mysterious and I’m not in any way wanting to make fun of what happened. But these folks back then misinterpreted those verses and ended up being embarrassed and needing to make some difficult explanations. Here’s what happened.

A very key event occurred in the history of the Jews, during the time of their captive in Babylon and the beginning of their return to Israel. Some historians have set the date of that event at 544 BC. Setting the exact date on this and explaining the details and specifics are complicated and I won’t go into it here since it’s part of the class on Daniel chapter 9.

1844-merged-for blog postBut this Christian religious movement in the 1800’s came to the incorrect conclusion that “2300 days” in Daniel 8:14 actually means 2300 years. So they did their math. Using an approximate date of 544 BC, adding an additional 2300 years would mean that these verses in Daniel 8 tell us that the Kingdom of God would be set up in …1844!

The 1840’s were not a particularly traumatic time for people living in the United States. But for Europeans, the 1840’s were a time of revolution and major social dishevel in many countries. Well, this religious group I mentioned, spread out in many lands, came down to a fateful night in October of 1844 when they went up on their housetops to welcome the return of Jesus.Manor house & people-flattened

But, Jesus didn’t come back that night and that whole denomination was mocked and ridiculed.  It didn’t end there. Years later a new denomination was started. They looked over the mistakes the other group made and came up with a new idea. They saw places in the Bible that used the number “70”. And they added 70 more years onto 1844. That would mean that the coming of the Lord would actually be in…1914!

1914-merged- for blog postWell, 1914 was a very significant, turbulent year to say the least. It was the beginning of World War I, a war unlike any other before it. Also, in the fields of science, culture, business and technology, things were changing incredible fast. But, the Lord didn’t return in 1914. So they ended up saying that actually Jesus did return that year to the earth. But that He’s now presently “in the clouds”, looking over the judgment books. And honesty, if you keep up with these kinds of things, this type of prophetic interpretation is happening in our times just as much if not more than it was 100 years ago.

Sadam Hussein2-for blog postRemember Saddam Hussein? At the time of the Iraq war, there were all kinds of web sites and commentators saying that Saddam Hussein was the Biblical Antichrist. And the modern nation of Iraq was the fulfillment of Babylon the Great from Revelation 18. Websites and airwaves were full of those kinds of twisted, opportunistic interpretations of Bible prophecy, often for political motives and secular agendas.

We believers are supposed to be wise as serpents and harmless as doves. But that doesn’t mean we’re to be naive, gullible and easily manipulated.

I believe it’s important to be very realistic and cautious about interpreting God’s Word. There’s just a real danger in getting overly specific about soon-coming events through a misapplication and misinterpretation of ancient Bible prophecy, especially if politics or nationalism is using Bible prophecy for their own secular ends. Not only can you just being totally wrong, you can do enormous damage to the faith of millions of people, the “multitudes in the valley of decision”, as the Prophet Joel talked about.

There are so many people today “in the valley of decision” who sense the truth and want to learn more. But when they’re stumbled by false teaching and prophetic interpretations that prove false, they turn away from God and search elsewhere for the truth they’re seeking.  That’s heartbreaking and must grieve the heart of the God of Abraham for any of us to do that. On the other hand, simply because mistakes like this have been made, it doesn’t take anything away from the certainty of prophecy. But it’s a serious, sober warning to us all to not teach speculation and hypothesis as something that we should take as absolute gospel truth.

 

“God is chance!” (?)

God is chance-flattenedI was a freshman in university in Austin, Texas years ago, in the middle of a conversation with my friends when I blurted out, “God is chance!” At the time it really seemed like an epiphany. If you’re an atheist, as I was, “Chance” seems to be the ultimate ingredient that’s caused everything. Atheists believe that everything “just happened” from a series of accidents. Those beautiful eyes of your loved one? Just a series of numberless mutations over trillions of years that ended up being a human eye. Or that flower, that strange bird, and on and on? Just chance, accidents, coincidences and happenstance.

My life back then was already on a huge rollercoaster with unseen forces I was totally unaware of. But I really believe that off Somewhere, Someone saw me say “God is chance” that day and kind of marked it down right then. Because for the next couple of years, things kept “happening” to me. And I gradually realized more and more that those things just defied the law of averages that I thought was the ultimate arbitrator of all that occurs on earth.

But like I said about reason in “Reason? Or the Miraculous”, it’s not like I don’t believe in chance. The Bible certainly talks about reason and it talks about chance too. In I Samuel 6:9 it says, “…it was a chance that happened to us.” And Ecclesiastes 9:11 says “…time and chance happen to them all.For your good-two-flattened On the other hand, some things are not chance. But so often our eyes are blinded to the spiritual cause and often angelic intervention that brought something on. I’ll give you an example.

For years I’d been an idol worshipper. No, not Moloch, Baal or Ashtoreth. I worshipped a certain kind of sports car. I’d had a picture of it on my bedroom wall since I was 14. I dreamed of it, I longed for it, I spoke of it and I was determined in my heart that I would have it, no matter what. And so, in university, I finally got it.

But it was like how the Israelites lusted after meat in the wilderness and finally God sent so many quail that they gorged themselves on the quail and many died.  Speaking about this in Psalms 106.15, it says of God, “And He gave them their requests, but sent leanness to their souls”. That’s how that sports car was, something I “just had to have”. So I got it but God really “sent leanness” to my soul. In fact, He got a lot of mileage out of that mistake.

A few days after I got the sports car, I was driving near the campus, just bursting with pride. The top was down, I felt so totally cool and I was virtually expecting that hot women would be jumping into the passenger seat when I stopped at a red light. What I didn’t notice was a car that had stopped in the street ahead of me. While I was distracted, I plowed into the back of that stalled car. Because my car was so low to the ground, it went under that car, seriously disfiguring its high class looks and somewhat damaging the engine.

shaking fistMy response? Shock of course. And anger. But somehow in my heart, I knew it was more than an accident. I remember so distinctly either that I literally shook my fist into the air or, if I didn’t do it physically, I certainly did it in my heart and mind. Who was I shaking my fist at? “The Fates”, as I called them back then. I just knew that it was something with a message to it.

“So you want this fancy car? OK, you got it; but now this is going to happen.”

“Why?” I screamed in my heart. I just instinctively knew that it was more than happenstance. It was part of something that was greater than me. What, I totally didn’t know. Had “the Fates”, some mystical Greek gods, done this to me? But God had smashed my idol.I will have no other Gods before me,” He says. (Exodus 20:3)

Other things keep happening to me from time to time during those years.  Some were “incredible good luck” and other things were “really bad luck”. But I kept all these things and pondered them, trying to make sense out of it. Now I know that much of the time, it wasn’t chance. It was the hand of God, allowing some things and keeping me back from others.

UpAgainstTheWall_02-reworkedThere were so many incredibly foolish things I nearly did or actually did do.  But the hand of God either prevented me from doing them or kept me back from suffering very badly for my foolishness. Another example of this was when the police raided my apartment, looking for drugs. I wrote about this in “Up Against the Wall!

A man’s heart devises his way but the Lord directs his steps.” (Proverbs 16:9)  In time and ultimately, like I wrote in “Lucifer and the White Moths”, the Lord delivered me from my unbelief and darkened life, translating me into the world of His Spirit. more than meets the eye-flattenedI found that my idea of “God is chance” was a very dim statement. But it was almost like the Lord decided to take me up on that one and kept letting “accidents” happen for a couple of years, just to show me that “there’s more than meets the eye”, a whole world of spirits and spiritual activity that we mortals really need to realize, acknowledge and get on the right side of, the side of the God of Abraham and His Son, Jesus.

Книгата на Даниел глава 7 (Bulgarian)

YouTube Preview Image

български

Глава 7-ма от книгата Даниил много прилича на книгата Откровение на Йоана, повече от всяка друга глава в Библията. Но виденията в Даниил 7-ма глава бяха дадени на пророк Даниил около 600 години преди истините в Откровение да бяха показани на апостол Йоан.

English

I’ve completed the Bulgarian version of the video on Daniel chapter 7. Chapter 7 of the book of Daniel is more similar to the book of Revelation than any other chapter in the Bible. But the visions of Daniel 7 were shown to the prophet Daniel over 600 years before the truths of Revelation were shown to the Apostle John. The English version of this video can be seen here.

Книгата на Даниел глава 2 (Bulgarian)

YouTube Preview Image

българска

Това е моето второ видео на български от серията “Пророчествата на Даниил”. Даниил 2 глава се счита от много учени от различни вероизповедания за най-кратката и синтезирана картина на историята и бъдещето на света в цялата Библия. Тази глава е основата, от която ние можем да разберем много пророчества изпълнени в миналото, както и да видим какво още има да се изпълни в идните дни.

Винаги ми е изглеждало, че тази глава е преднамерено написана от Бог като лесна първа стъпка по пътя на пророчеството. Тя е подготовка за по-трудни пророчески глави като Даниил 7 глава. Тя е главата, с която ще започнем наистина да се изкачваме по планината на пророчеството.

Английската версия на това видео, “The Book of Daniel Chapter 2”, може да се види тук. Първото видео от тази серия, “Пророчества изпълнени в историята”, може да се види тук. Надявам се вие и вашите приятели да получите голяма полза от тези видео уроци върху Библейските пророчества.

English

Daniel Chapter 2 is considered by scholars of almost all faiths to be the briefest and most concise overall picture of the history and future of the world in the entire Bible. This chapter is in many ways the foundation on which we can understand the many fulfilled prophecies of the past, as well as see what still is to be fulfilled in times soon to come.

It has often seemed to me that this chapter was intentionally designed by God as an easy first step along the path of prophecy. It’s like a preparation for the more advanced prophecy chapters, such as Daniel chapter 7. That chapter is where we will begin to really climb up into the mountains of prophecy.

The English version of this video, “The Book of Daniel Chapter 2”, can be seen here.  The first Bulgarian video in this series, “Пророчества изпълнени в историята”, can be seen here. I hope you and your friends will enjoy and benefit from these videos on Bible prophecy.

El Libro de Daniel Capítulo 2 (Spanish)

YouTube Preview Image

Español

Daniel Capítulo 2 es considerado por los estudiosos de casi todas las religiones por ser la imagen general más breve y  concisa de la historia y el futuro del mundo en toda la Biblia. Este capítulo es, en muchos sentidos la base sobre la cual podemos entender las muchas profecías cumplidas del pasado, así como ver lo que aún está por cumplirse en los tiempos por  venir.
Muy a menudo me ha parecido que este capítulo, fue diseñado intencionalmente por Dios como un primer paso fácil a seguir  lo largo del camino de la profecía. Es como una preparación para los capítulos  proféticos  más avanzadas, como Daniel capítulo 7. Ese capítulo es donde vamos a empezar a subir muy arriba en las montañas de la profecía.

La versión en Inglés de este video, “The Book of Daniel Chapter 2”, se puede ver aquí. El primer video español de esta serie, “La Profecía Bíblica de la Historia”, se puede ver aquí. Espero que usted y sus amigos puedan  disfrutar y al mismo tiempo  beneficiarse de estos videos sobre la profecía bíblica.

English

Daniel Chapter 2 is considered by scholars of almost all faiths to be the briefest and most concise overall picture of the history and future of the world in the entire Bible. This chapter is in many ways the foundation on which we can understand the many fulfilled prophecies of the past, as well as see what still is to be fulfilled in times soon to come.

It has often seemed to me that this chapter was intentionally designed by God as an easy first step along the path of prophecy. It’s like a preparation for the more advanced prophecy chapters, such as Daniel chapter 7. That chapter is where we will begin to really climb up into the mountains of prophecy.

The English version of this video, “The Book of Daniel Chapter 2”, can be seen here.  The first Spanish video in this series, “La Profecía Bíblica de la Historia”, can be seen here. I hope you and your friends will enjoy and benefit from these videos on Bible prophecy.

 

दानिएल अध्याय 2 (Hindi)

D2 opening shot for blog post article

[The text to the Daniel 2 video in Hindi]

अपने पिछले अध्ययन में हमने वह देखा जो आप में से कुछ लोगों के लिए नया था: भविष्यवाणी और वास्तविक संसार में उसका पूरा होना. अपने पिछले अध्ययन में हमने पुराने नियम की कुछ प्रमुख भविष्यवाणीयों देखा और साथ ही इजराइल के इतिहास में राष्ट्र और लोगों के लिए कैसे ये भविष्यवाणी पूरी हुईं इस पर एक उड़ती नजर डाली.

picture of me for D2 blog post  और संक्षिप्त में हमने यह भी देखा कि बाइबल की कुछ भविष्यवाणी अभी भी पूरी होना बाकी हैं जिसका प्रभाव मेरे आपके और इस संसार पर पड़ सकता है. वास्तव में अपने पिछले अध्ययन के अनुसार फिर से यह बताना चाहता हूँ कि जब चेलों ने यीशु से संसार के भविष्य के बारे में पूछा, तब उसने विशेष रूप से दानिएल भविष्यवक्ता के बारे में कहा “इसलिए जब तुम …(भविष्य की घटनाएँ) …जिसकी चर्चा दानिएल भविष्यवक्ता के द्वारा हुई थी,(जो पढ़े वह समझे) मत्ती २४:१५

“जो दानिएल की भविष्यवाणी को पढता है वह समझे” इसका अर्थ यह है कि जो कुछ दानिएल ने कहा है वह महत्वपूर्ण है. अत: अब हंम दानिएल के दुसरे अध्याय का अध्ययन करने जा रहे हैं जिसे लगभग सभी मतों के विद्वानों में सम्पूर्ण बाइबल में संसार के इतिहास और भविष्य का संक्षिप्त चित्रण स्वीकार किया है. आइये हम देखे कि दानिएल कौन था, उसका जीवन कैसा था, और भी कुछ.

Young daniel 4 blog postयह लगभग 604BC का समय है जबकि दानिएल शायद उस समय अपनी किशोर अवस्था में था. उसका देश यहूदा (जो उस समय कहलाता था) 800 Judah map for D2 blog postवर्षो के अपने स्वतंत्र राज्य के अस्तित्व के अन्तिम कुछ वर्षों और महीनो में था.

यह एक बढ़ते हुए जवान के लिए एक अस्थायी कष्टदायक अशुभ समय था. उस समय के संसार की सबसे बड़ी खबर यह थी कि कुछ वर्षो पूर्व ही उस समय सबसे शक्तिशाली Assyria का पतन, और बेबीलोन के राज्य का उद्गम जो अपने पहले का सब कुछ जीतते और अपने अधीन कर रहा था.

main Babylon map for D2 blog post604BC में, बेबीलोन के राजा नबुकद्नेसर ने यहूदा और यरूशलेम जो पुराने राज्य की राजधानी इजराइल के रूप में जाना जाता था के विरुद्ध एक सेना की टुकड़ी भेजा. इसी धरपकड़ के दौरान हमारा जवान किशोर दानिएल बन्धुए और गुलाम के रूप में सैकडों मील दूर बेबीलोन की ओर ले जाया गया.

Exilefinal 4 blog postइसके बाद वे बेबीलोन ले जाये गये. दानिएल और उसके तीन दोस्त जो इजराइल के राज घराने से सम्बन्ध रखते थे उन्हें एक प्रशिक्षण देने वाले स्कूल में रखा गया. तत्काल उन्होंने अपने आप को अपने सच्चे विश्वास और दृढ मत में अपने नये शासकों के साथ सहयोग करते हुए भी अलग कर लिया.

Babylon city pictrue for D2 blog postबेबीलोन अपने समय में वैसा ही आदर और प्रेरणादायक शहर था जैसे कि रोम और एथेंस. या फिर आज के आधुनिक शहरो के जैसा. बेबीलोन सोने का शहर कहलाता था, — शिक्षित, आधुनिकतावादी, शक्तिशाली – उस समयों के लिए विश्व का केंद्र और लगभग अजेय था.

हम कहानी को उस समय से आरम्भ करते हैं जबकि दानिएल और उसके मित्र बेबीलोन में तीन वर्षों से रह रहे थे. हम क्या देखते हैं कि नबुकद्नेसर राजा एक स्वप्न देखता है. और वह स्वप्न उसे याद नहीं है. यह तो किसी के साथ भी हो सकता है परन्तु यह कुछ विशेष था. क्योंकि उस समय वह वास्तव में संसार या कम से कम सभ्य समाज में सबसे अधिक पहचान रखने वाला  शासक था. और तत्काल अपना रास्ता खुद चुन लेता था.

Neb first shot for D2 blog postअत: उसने वही किया जो एक संसार का शासक करता. उसने संसार के सभी  ज्योतिषी, जादूगरों और तंत्र मन्त्र करने वालों सबको बुलाया. और उसने कहा:

मैंने एक स्वप्न देखा है, और मेरा मन व्याकुल है कि स्वप्न को कैसे समझूँ?” (दानिएल २:३)

Advisors answer first time for D2 blog postऐसा प्रतीत होता है कि लोग पिछले २६०० वर्षों में भी नहीं बदले क्योंकि उसके सलाहकारों ने उत्तर दिया:

“…हे राजा तू चिरंजीवी रहे! अपने दासों को स्वप्न बता, और हम उसका फल बताएँगे.” (दानिएल २:४)

नबुकद्नेसर ने उन्हें देखा और कहा:

Neb answers advisors for D2 blog post“… मैं यह आज्ञा दे चूका हूँ कि यदि तुम फल समेत स्वप्न को बताओगे तो तुम टुकड़ेटुकड़े किये जाओगे, और तुम्हारे घर फुंकवा दिए जाएँगे. पर यदि तुम फल समेत स्वप्न को बता दो तो मुझसे भांतिभांति के दान और भारी प्रतिष्ठा पाओगे”. (दानिएल २:५-६)

सलाहकार फिर आग्रह करने लगे और राजा के द्वारा पुन: धमकाए जाने के बाद उन्होंने कहा;

Advisors answer 2nd time for D2 blog postपृथ्वी भर में ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो राजा के मन कि बात बता सके; और कोई ऐसा राजा, या  प्रधान, या हाकिम कभी हुआ है जिसने किसी ज्योतिषी,या तंत्री, या कसदी से ऐसी बात पूछी हो. जो बात देवताओं को छोड़कर जिनका निवास मनुष्यों के संग नहीं है, और कोई दूसरा नहीं,जो राजा को यह बता सके.(दानिएल २:१०-११)

वास्तव में यह सच है कि कोई भी आपने जो स्वप्न देखा है वह कैसे बता सकता है. लेकिन यह नबुकद्नेसर के लिए बहुत ही असंतोषजनक था और उसने तत्काल यह आज्ञा दी कि सब ज्योतिषी, तंत्री, और कसदियों को मार डाला जाए. और यह दानिएल और उसके दोस्तों के स्कूल की स्थिति थी.

अब यदि आपने इसके बारे में पहले कभी नहीं सुना है तो आप यह सोचेंगे कि इस प्राचीन इतिहास में ऐसा क्या है जो भविष्यवाणी और भविष्य से सम्बंधित हो? लेकिन धीरज रखे हम विषय पर आ रहे हैं.

Daniel and guardतब आगे आप जानते हैं कि राजा के प्रधानो में से एक जो दानिएल और उसके दोस्तों की देखभाल के लिए नियुक्त था उसने उन्हें दंड के लिए तैयार रहने को कहा. दानिएल ने पूछा कि यह क्यों हो रहा है और उसने जब राजा के स्वप्न के बारे में जाना तो उसने अपने परमेश्वर से प्रार्थना करने का समय माँगा, ताकि परमेश्वर उसे स्वप्न और फल दोनों को बता दे.

तब उसे यह अनुमति मिल गई और दानिएल अपने दोस्तों के साथ प्रार्थना करने लगा. वह उस स्वप्न का अर्थ कैसे बता सकता था जबकि उसे स्वप्न ही नहीं मालूम था.

तब यहाँ देखिये कि वचन क्या कहता है:

तब वह भेद दानिएल को रात के समय दर्शन के द्वारा प्रगट किया गया..”(दानिएल २:१९)

Daniel praying 4 blog post articleइसका अर्थ यह है कि परमेश्वर ने वास्तव में दानिएल को नबुकद्नेसर का स्वप्न क्या है और उसके फल को बताया. यह परमेश्वर की अलौकिक शक्ति के बिना असम्भव था! इसलिए उसने धन्यवाद की वास्तविक प्रार्थना किया:

दानिएल ने उत्तर दिया और कहा:

परमेश्वर का नाम युगानुयुग धन्य है, क्योंकि बुद्धि और पराक्रम उसी के हैं. समयों और ऋतुओं को वही बदलता है, राजाओं का अस्त और उदय भी वही करता है; बुद्धिमानो की बुद्धि और समझवालों को समझ भी वही देता है; वही गूढ़ और गुप्त बातों को प्रगट करता है; वह जानता है कि अन्धियारे में क्या है, और उसके संग सदा प्रकाश बना रहता है; हे मेरे पूर्वजों के परमेश्वर, मैं तेरा धन्यवाद और स्तुति करता हूँ, क्योंकि तूने मुझे बुद्धि और शक्ति दी है, और जिस भेद का खुलना हम लोगों ने तुझसे माँगा था, उसे तूने मुझ पर प्रगट किया है, तूने हमको राजा की बात बताई है.” (दानिएल २:२०-२३)

तब दानिएल राजा के प्रधान के पास गया और उससे कही कि मुझे नबुकद्नेसर के पास ले चलो ताकि मैं उसके स्वप्न और भेद को बता सकूँ.

यह वास्तविक घटना है न ही कोई मूवी या ड्रामा. जैसा कि बाइबल में दर्शाया गया है ऐसा प्रतीत होता है कि दानिएल उस समय लगभग १४ वर्ष का होगा. उसे और उसके दोस्तों को कई बार बच्चा कहा गया. वह यहाँ एक निर्वासित जवान था, जो अपने परिवार से दूर, अपने धार्मिक आधार से दूर, संसार के सबसे क्रूर, निर्दयी, क्रोधी, Daniel comes b4 Neb 4 blog postशासक के सामने जाने को तैयार था ताकि राजा ने जो स्वप्न देखा और उसका फल बताने जा रहा था. जैसे सारी सम्भावनाएं विपरीत ही क्यों न हो लेकिन उसे परमेश्वर पर विश्वास था.

दानिएल को राजा के सम्मुख लाया गया और ऐसा प्रतीत होता है कि सिंहासन के समक्ष सारे लोग उपस्थित थे. और राजा ने उससे पूछा:

“क्या तुझमे इतनी शक्ति है कि जो स्वप्न मैंने देखा ही, उसे फल समेत मुझे बताये?” (दानिएल २:२६)

दानिएल ने उत्तर दिया:Dan & Neb main scene 4 blog post

“जो भेद राजा पूछता है, वह न तो पंडित, न तंत्री, न ज्योतिषी, न दूसरे भाषी बताने वाले राजा को बता सकते हैं, परन्तु भेदों का प्रगटकर्ता परमेश्वर स्वर्ग में है, और उसी ने नबुकद्नेसर राजा को बताया है कि अंत के दिनों में क्या क्या होने वाला है. तेरा स्वप्न और जो कुछ तूने पलंग पर पड़े हुए देखा वह यह है.” (दानिएल २:२७-२८)

दानिएल के पास निर्भीकता और आत्मविश्वास था! और उसने तुरंत सारा श्रेय परमेश्वर को दिया अपने आप को नहीं वह यहाँ कहता है कि स्वर्ग का परमेश्वर राजा को यह बता रहा है कि अंत के दिनों में क्या होगा. अत: यह परमेश्वर की ओर से राजा को भविष्य के बारे में भविष्यवाणी का सन्देश था.

“…तेरा स्वप्न और जो कुछ तूने पलंग पर पड़े हुए देखा है: हे राजा जब तुझको पलंग पर यह विचार आया कि भविष्य में क्या-क्या होने वाला है,( यहाँ पर फिर से भविष्य का सन्देश है) तब भेदों को खोलने वाले ने मुझे बताया कि क्या क्या होने वाला है.” (दानिएल २:२८-२९)

यदि अपने पहले यह कभी नहीं सुना है तो आरम्भ में यह आपको आश्चर्यजनक और भेदों से भरा हुआ प्रतीत होगा. दानिएल राजा को पहले उसने स्वप्न में क्या देखा और उसके बाद स्वप्न का फल बताने जा रहा है.

“ हे राजा जब तू देख रहा था, तब एक बड़ी मूर्ति देख पड़ी, और और वह मूर्ति जो तेरे सामने खड़ी थी वह लम्बी चौड़ी थी; उसकी चमक अनुपम थी, और उसका रूप भयंकर था”. (दानिएल २:३१)Dan Neb and statue main scene for blog post

“ उस मूर्ति का सिर तो चोखे सोने का था, उसकी छाती और भुजाएँ चाँदी की, उसका पेट और जाँघें पीतल की. उसकी टाँगें लोहे की और उसके पाँव कुछ तो लोहे के और कुछ मिट्टी के थे. (दानिएल २:३२-३३)image crumbling2

“ फिर देखते देखते तूने क्या देखा कि एक पत्थर ने, बिना किसी के खोदे, आप ही आप उखडकर उस मूर्ति के पावों पर लगकर जो लोहे और मिट्टी के थे उनको चूर चूर कर डाला”. (दानिएल २:३४)broken to pieces 4 blog post2

“ तब लोहा, मिट्टी, पीतल, चाँदी और सोना भी सब चूर चूर हो गए, और धुपकाल में खलियानों के भूसे के सामान हवा से ऐसे उड़ गए कि उनका कहीं पता न रहा;whole earth

और वह पत्थर जो मूर्ति पर लगा था, वह पहाड़ बनकर सारी पृथ्वी में फ़ैल गया”. (दानिएल २: ३५)

Daniel looks 4 blog postउस समय उस कमरे में एक अदभुत अहसास हो रहा होगा. क्या इस समय दानिएल ने एक क्षण ले लिए भी कभी यह सोचा कि यदि वह गलत हुआ तो क्या होगा? क्या नबुकद्नेसर के सभी ज्ञानी लोग यह पूर्णतया विश्वास कर रहे थे कि यह जवान विदेशी बच्चा कुछ ही मिनटों में उनके सम्मुख टुकड़े टुकड़े कर दिया जावेगा. जब दानिएल ने अनजान अदभुत स्वप्न के बारे में बताना आरम्भ किया तब नबुकद्नेसर क्या अनुभव कर रहा था और उसकी क्या प्रतिक्रिया थी? Nebs advisors for D2 blog postआइये हम देखें कि दानिएल जब नबुकद्नेसर को स्वप्न का अर्थ बताना आरम्भ करता है तब क्या कहता है.

“स्वप्न तो यों ही हुआ, और अब हम उसका फल राजा को समझा देते हैं. हे राजा तू तो महाराजधिराज है, क्योंकि स्वर्ग के परमेश्वर ने तुझको राज्य, सामर्थ्य, शक्ति और head of goldमहिमा दी है, और जहाँ कहीं मनुष्य पाए जाते हैं, वहां उसने उन सभों को और मैदान के जीवजंतु, और आकाश के पक्षी भी तो तेरे वश में कर दिए हैं; और तुझको उन सबका अधिकारी ठहराया है. यह सोने का सिर तू ही है”. (दानिएल २:३६-३८)

दानिएल ने नबुकद्नेसर से कहा सोने का सिर तू ही है. यह इस स्वप्न के भेद को जानने कि कुँजी है. “नबुकद्नेसर तू और तेरा साम्राज्य बेबीलोन सोने के सिर हैं”.

“तेरे बाद एक राज्य और उदय होगा जो तुझसे छोटा होगा; (दानिएल २:३९अ)arms of silver

belly of brassफिर एक और तीसरा पीतल का सा राज्य होगा जिसमे सारी पृथ्वी आ जाएगी”.(दानिएल २:३९ब)

यहाँ से भविष्य के लिए कथन आरम्भ होता है. वह उसे बता रहा है कि उसके बाद कौनसे राज्य आने वाले हैं. अभी हम यहाँ देखेंगे कि दानिएल ने क्या कहा और उसका स्पष्टीकरण आगे देखेंगे.

“ चौथा राज्य लोहे के तुल्य मजबूत होगा; लोहे से तो सब वस्तुएँ चूर चूर हो जाति और पिस जाती हैं; इसलिए जिस legs of ironभांति लोहे से वे सब कुचली जाती हैं, उसी भांति उस चौथे राज्य से सब कुछ चूर चूर होकर पिस जाएगा”. (दानिएल २:४०)

“तूने जो मूर्ति के पावों और उनकी उँगलियों को देखा, जो कुछ कुम्हार की मिट्टी की और कुछ लोहे की थीं, इससे वह चौथा राज्य बटा हुआ होगा; तौभी उसमे लोहे का सा कड़ापन रहेगा, जैसे कि तूने कुम्हार की मिट्टी के संग लोहा मिला हुआ देखा था. feet and toesजैसे पावों को उँगलियाँ कुछ तो लोहे कि और कुछ मिट्टी की थीं, इसका अर्थ यह है कि वह राज्य कुछ तो दृढ और कुछ निर्बल होगा”. (दानिएल २:४१-४२)

यदि अपने अभी तक कुछ नहीं समझा है तो थोडा धीरज रखिए हम अभी इस पर आ रहे हैं. लेकिन आगे के पद को ध्यान से देखिये क्योंकि यह शायद अध्याय का सबसे महत्वपूर्ण पद है.

whole earth“ उन राजाओं के दिनों में स्वर्ग का परमेश्वर एक ऐसा राज्य उदय करेगा जो अनंतकाल तक न टूटेगा, औए न वह किसी दूसरी जाति के हाथ में किया जाएगा. वरन वह उन सब राज्यों को चूर चूर करेगा, और उनका अन्त कर डालेगा; और वह सदा स्थिर रहेगा;” (दानिएल २:४४)

जैसा तूने देखा कि एक पत्थर किसी के हाथ के बिन खोदे पहाड़ में से उखड़ा, और उसने लोहे, पीतल, मिट्टी, चाँदी, और सोने को चूर चूर किया, इसी रीति महान परमेश्वर ने राजा को बताया है कि इसके बाद क्या क्या होनेवाला है. न स्वप्न में और न उसके फल में कुछ संदेह है”. (दानिएल २:४५)

Neb final for D2 blog post articleतब दानिएल ने अपनी बात ख़त्म किया और वहीँ खड़ा रहा. निश्चय ही दानिएल और नबुकद्नेसर एक दुसरे को देख रहे होएँगे. Daniel looks 4 blog post निश्चय ही यह वहाँ उपस्थित सभी लोगों के बीच एक चुप्पी का माहौल होगा. क्या दानिएल मार डाला जाएगा या उसने नबुकद्नेसर को सब कुछ सही बताया आइये हम देखते हैं.

“इतना सुनकर नबुकद्नेसर राजा ने मुँह के बल गिरकर दानिएल को दण्डवत किया, और आज्ञा दी कि उसको भेट चढाओ, और उसके सामने सुगंध वस्तु जलाओ. (दानिएल २:४६)

Neb on face for D2 blog post articleनबुकद्नेसर दानिएल के सामने अपनी राज सभा के समक्ष मुँह के बल गिर गया और आज्ञा दी कि उसके सामने पशुओ की बलि चढाओ! क्या आप जानते हैं कि इसका मतलब क्या था इसका अर्थ है कि जो कुछ भी नबुकद्नेसर ने स्वप्न में देखा और राजा यह निश्चित जानता था कि उन सब बातो का यही स्पष्टीकरण हो सकता था!

“फिर राजा ने दानिएल से कहा, ‘’ सच तो यह है कि तुम लोगों का परमेश्वर, सब ईश्वरों का ईश्वर राजाओं का राजा और भेदों का खोलने वाला है, इसीलिए तू यह भेद प्रगट कर पाया.”(दानिएल २:४७)

“तब राजा ने दानिएल का पद बड़ा किया, और उसको बहुत से बड़े बड़े दान दिए; और यह आज्ञा दी कि वह बेबीलोन के सारे प्रान्त पर हाकिम और बेबीलोन के पंडितों पर मुख्य प्रधान बने.” (दानिएल २:४८)

जरा सोचिये कि किसी देश का शासक एक जवान किशोर जो कि एक निर्वासित और वास्तव में एक युद्ध बन्दी था के पैरो पर गिर जाए. यह उस समय सारे संसार के समक्ष इस शासक के लिए एक अकल्पनीय प्रभाव था. आइये हम इन सबको देखे और इसका अर्थ जाने. पद ३८ के द्वारा हम जानते हैं कि दानिएल ने कहा कि सोने का सिर नबुकद्नेसर और उसके सम्राज्य बेबीलोन को प्रदर्शित करता है.

head Babylon“और जहाँ कहीं मनुष्य पाए जाते हैं, वहाँ उसने उन सभों को, और मैदान के जीवजन्तु, और आकाश के पक्षी भी तेरे वश में कर दिए हैं; और तुझको उन सबका अधिकारी ठहराया है. यह सोने का सिर तू ही है.” (दानिएल २:३८)

और अगला पद बताता है कि चाँदी एक दूसरा राज्य जो छोटा होगा का प्रतीक है. अत: मूर्ति के ये भाग राजा या उसके राज्य को प्रदर्शित करते हैं. लेकिन क्यों नबुकद्नेसर और उसका राज्य बेबीलोन को “सोने का सिर” प्रदर्शित किया गया है. कुछ लोग यह सोचते हैं कि दानिएल वहाँ नबुकद्नेसर की चापलूसी कर रहा था. लेकिन परमेश्वर ने स्वयं यह स्वप्न दिया इस कारण यह सम्भव नहीं है. अब यहाँ हम नबुकद्नेसर के परमेश्वर पर बढ़ते हुए विश्वास को देखते हैं जब उसने दानिएल को कहा “सच तो यह है कि तुम लोगों का परमेश्वर सब ईश्वरों का ईश्वर, राजाओं का राजा और भेदों का प्रगट करने वाला है.” (दानिएल २:४७)

अत: उस समय यहाँ अब्राहम के परमेश्वर को सबसे बड़ा ईश्वर प्रमाणित किया. दानिएल के अध्याय ३ में नबुकद्नेसर ने सभी लोगों को यह आज्ञा दी कि सब जगहों पर दानिएल के ईश्वर की उपासना की जावे. और अध्याय ४ जो कि वास्तव में पूरा नबुकद्नेसर ने लिखा है. वह परमेश्वर की महान सामर्थ्य के द्वारा अपने आप को शून्य और पुनर्स्थापित करने पर अपने हृदय के पूर्ण परिवर्तन को बताता है. कोई अन्य विदेशी राजा इस हद तक नहीं पहुंचा जितना कि नबुकद्नेसर और इसीलिए परमेश्वर ने उसे और उसके साम्राज्य बेबीलोन को धन और ज्ञान के साथ सिर के रूप में प्रदर्शित किया. लेकिन आगे दानिएल मूर्ति के अगले हिस्से के बारे में बताता है, छाती और भुजाएँ चाँदी के, जो उस राज्य को  प्रदर्शित करता है जो नबुकद्नेसर के बाद होगा या दुसरे शब्दों में बेबीलोन के बाद आएगा.

arms Persiaबेबीलोन के बाद कौन आएगा? ठीक लगभग ५० वर्षों के बाद, नबुकद्नेसर के पोते के समय बेबीलोन के ऊपर दो राज्यों द्वारा कब्जा कर लिया गया Medes और Persians.

आप यह पूछ सकते हैं कि यह दोहरा साम्राज्य क्या है? इतिहास बताता है कि medes उस जगह से आए थे जोकि आज नार्थवेस्ट ईरान कहलाता है और ये वे लोग हैं जिन्होंने सबसे पहले बेबीलोन पर कब्जा किया था. क्या आपने कभी “दीवार पर हाथ की लिखावट” के बारे में सुना है.

यह वास्तव में दानिएल के ५ वे अध्याय से है जहाँ नबुकद्नेसर के पियक्कड़ पोते की पार्टी में प्रगट रूप से एक हाथ दिखाई दिया था. उस हाथ ने यह लिखा कि “तकेल, अर्थात तू मानो तराजू में तौला गया और हल्का पाया गया है.” (दानिएल ५:२७) और इस प्रकार बेबीलोन का राज्य medes और persian को सौंप दिया गया.handwriting on wall

MedesBab 4 blog postयह अध्याय हमे आगे बताता है कि उसी रात को बेबीलोन की सुरक्षा तोड़ दी गई और medes ने उनको हर कर शहर में प्रवेश कर लिया.

लेकिन मजबूत गठबन्धन वाला दूसरा सहयोगी Persian था. ये दोनों लोग प्राचीन संसार में अगली बड़ी शक्ति बन गये थे. अत: मूर्ति का अगला भाग दो हाथ थे जो यह प्रदर्शित करते थे कि बेबीलोन का सम्राज्य कुछ दोहरी प्रकृति वाला होगा. और निश्चय ही अगला सम्राज्य Medes और Persian दोनों का था. इसी प्रकार हम आगे देखेंगे.

अत: अब इतिहास से हम जानते हैं कि बेबीलोन के बाद आने वाला राज्य “चाँदी के हाथ” जिसकी यहाँ भविष्यवाणी की गई है वह Medes और Persian थे. वो तीसरा राज्य “पीतल का भाग” क्या है?bellybrass4blogpost इतिहास से हम जानते हैं कि एलेग्जेंडर महान की अगुवाई में ग्रीस ने ३३३ BC में Persia पर कब्जा कर लिया था. ग्रीस के बारे में पेट और जांघे पीतल की के सम्बन्ध में क्या कोई लक्षण है? वैसे तो ये भाग शारीरिक रूप से महत्वपूर्ण इन्द्रियों का भाग कहा जाता है. और ये लोग बहुत धार्मिक विचारो के थे जैसा कि बाइबल में बताया गया है कि आत्मा का स्थान शरीरों के बीच में होता है.

legs of ironऔर “चौथा लोहे का राज्य” आप इस बारे में क्या सोचते हैं? अब रोमियों ने ग्रीस से संसार की शक्ति को लगभग ४४ BC में ले लिया था. यहाँ लक्षण बिलकुल साफ हैं. जैसे कि रोमी सेना लोहे के समान इतनी मजबूत थी कि उनके लगभग 100 वर्षों के शासनकाल में मूलतःPaxRoman4blogpost कोई लड़ाई नहीं हुई. यह समय

“रोम की शांति” का था और कोई ऐसा राष्ट्र नहीं था जो उनके विरुद्ध उठ खड़ा होता. एक और बात है जो रोमन सम्राज्य के चित्रण में सही है जो कि सैंकड़ो वर्ष पूर्व आरम्भ हुई थी. क्या आप इटली रोमी राज्य की भूमि का मुख्य भाग के आकार के बारे में जानते हैं? इसका आकार किसके समान है? यह एक पैर या बूट के समान है.Rome map 4 blog site और आपके शरीर का सबसे लम्बा भाग कौन सा है? ये आपके पैर ही होते हैं. रोमी सम्राज्य अपने रोम के शहर से लगभग ५०० वर्षों तक जारी रहा.

जैसा कि हमने देखा “दो” भुजाएँ Persia और Medes को प्रगट करती हैं. और यहाँ मूर्ति के “दो” पाँव हैं. क्या रोमी सम्राज्य भी दो था? निश्चित था. रोम के पतन के बाद पश्चिमी भाग का विध्वंस हो गया. लेकिन एक पूर्वी भाग भी था, जोकि Byzantine सम्राज्य कहलाया, ByzantineMap4blogpostजोकि 1000 वर्षों तक चलता रहा, इस पूर्वी भाग का मुख्यालय Constantinople था जोकि आज Istanbul कहलाता है. अत: दो पाँव, चौथे सम्राज्य के दो भाग जैसा कि हमने देखा यह दानिएल और नबुकद्नेसर को लगभग ५०० वर्षो पूर्व ही दिखा दिए गए थे.

तब चौथे सम्राज्य के बाद, रोम के सम्बन्ध में स्थिति बदल गई. वैसे इन अनजान अंगुलियों के बारे में बहुत कुछ है, “… जो कुछ कुम्हार की मिट्टी की और कुछ लोहे की थी.” (दानिएल २:४१) इसका US congress4blogpostअर्थ क्या हो सकता है? अब जबकि लोहा निरंकुश रोमी सीजर और उसके बाद के निरंकुश शासको को दर्शाता है तो वहीँ मिट्टी जनता की सरकार या लोकतंत्र को दर्शाता है. मिट्टी परमेश्वर के शब्दों में “मनुष्यों” को दर्शाता है. जैसा कि यशायाह ६४:८ कहता है “… देख हम तो मिट्टी हैं…

अत: जनता की सरकार या लोकतंत्र “मिट्टी” की सरकार है. यह एक कमजोर प्रकार की सरकार है क्योंकि इसके पास “लोहे की शक्ति” (दानिएल २:४१) नहीं हैं. जोकि शक्तिशाली मनुष्य की निरंकुशता और उनका मजबूत शासन को दर्शाता है. जैसा कि कुछ निरंकुशताओ को हम इतिहास में आज भी देखते हैं.

और यह कहता है “सम्राज्य बंटा हुआ रहेगा” (दानिएल २:४१) रोम के पतन के बाद राष्ट्रों के टुकड़े हो गये थे, कोई ऐसी शक्ति नहीं थी जो प्रबल हो, हालाँकि नेपोलियन और हिटलर जैसे लोगों ने यह प्रयास किया. समय समय पर लगभग समान शक्ति वाले राज्य अपने अस्तित्व में रहे जैसे british, Spanish, ottoman, और chinese. लेकिन कोई भी राष्ट्र ऐसा प्रबल शक्तिशाली नहीं हुआ जैसे कि रोम अपने समय में था.

लेकिन “…उस पत्थर ने बिना किसी के खोदे …” (दानिएल २:३४) यह क्या है? जो मूर्ति पर लगा, कहाँ? अंगुलियों पर. यह दर्शाता है कि इतिहास के किस बिंदु पर, किस समय पर और कब यह घटित हुआ होगा? रोम के पतन के बाद. और यह पत्थर क्या करता है?image crumbling2 यह संसार के सारे समराज्यों को और मनुष्य के सम्राज्य को चकनाचूर कर देता और नष्ट कर देता है. दानिएल क्या कहता पत्थर अंगुलियों पर लगता है और पूरी मूर्ति चूर चूर होकर धूल हो गई और उड़ गई यह क्या दर्शाता है?

यहाँ वह नबुकद्नेसर से क्या कहता है शायद अध्यययन का सबसे अधिक महत्वपूर्ण पद.

उन राजाओं के दिनों में [कौन से राजा? अँगुलियों के समय हम इसके बारे में और अध्ययन करने जा रहे हैं] स्वर्ग का परमेश्वर, एक ऐसा राज्य उदय करेगा जो अनन्तकाल तक न टूटेगा, और न वह किसी दूसरी जाति के हाथ में किया जाएगा. वरन वह उन सब राज्यों को चूर चूर करेगा, और अन्त कर डालेगा, और वह सदा स्थिर रहेगा.” (दानिएल २:४४)

वह पत्थर “जो मूर्ति पर लगा” वह “बड़ा पहाड़ बन कर सारी पृथ्वी में फ़ैल गया”. परमेश्वर स्वयं इस पृथ्वी पर एक सम्राज्य बनाने जा रहा है.

whole earthकब? उस समय जो राष्ट्र रोमी सम्राज्य के बाद बचे या निकल कर आए वे लोहे और मिट्टी की अंगुलियों का प्रतिनिधित्व करते हैं. इसका क्या अर्थ होता है “पत्थर बिना किसी के खोदे” (दानिएल २:३४) यीशु को “सिरे का पत्थर” कहा गया है. (इफिसियों २:२०) जिसे कि मनुष्यों ने अस्वीकार कर दिया परन्तु वह परमेश्वर का चुना हुआ था. वह उस सम्राज्य का वारिस होने जा रहा है जो उसके लिए और उनके लिए जिन्होंने उसे चुना है तैयार की गई है.

और अब मैं यह आशा करता हूँ कि आपने कुछ पाया है. हम देखते हैं कि अभी कुछ बाकी है जोकि पूरा होना है. हम एक भविष्यवाणी को देखते हैं जो अभी पूरी होना बाकी है: उस पत्थर का आना जोकि मनुष्यों के सम्राज्य को चूर चूर करेगा, हम पृथ्वी पर परमेश्वर का राज्य उसके पुत्र यीशु के द्वारा आने वाला है देखते है.

और हम कैसे संदेह कर सकते हैं? नबुकद्नेसर ने भी नहीं किया. वह जानता था कि यही वह सपना है जो उसने देखा था और वह दानिएल के पैरों पर गिर पड़ा. राजा नबुकद्नेसर ने यह स्वीकार किया कि यह परमेश्वर का अदभुत चमत्कार ही है, जिसके परिणामस्वरूप दानिएल को उसने अपने सलाहकार के रूप में पदोन्नत किया.Neb on face for D2 blog post article
यह इस भविष्यवाणी की सबसे अदभुत बात है. इनमे से बहुत सी तो पूरी हो चुकी हैं, सम्राज्य आए और चले गये! तो जैसा कि कहा गया है, अन्तिम अभी तक क्यों पूरी नहीं हुई?

परमेश्वर चाहता है कि हम जाने क्योंकि वह हमसे प्रेम करता है, और उसके पास हमारे लिए इस संसार से कुछ बेहतर है. मेरे पास आपके लिए दोनों अच्छी और बुरी खबर है. यह संसार अब और अधिक बुरा होने जा रहा है. लेकिन अच्छी खबर यह है कि … जोकि हम पढ़ रहे हैं, और जो हमारे लिए हजारों वर्षो पूर्व कहा गया है. मैं आपके साथ फिर से यह वचन शेयर करना चाहता हूँ.

Dan 244 4blogpostउन राजाओं के दिनों में स्वर्ग का परमेश्वर एक ऐसा राज्य उदय करेगा जो अनन्तकाल तक न टूटेगा, और न वह किसी जाति के हाथ में किया जाएगा…(दानिएल २:४४)

हमने लगभग इस अध्ययन को समाप्त कर लिया है लेकिन मेरे पास एक और छोटी सी बात है. वह यह कि ये सब बाते आपको चिंता या भय में डाल सकती हैं. परमेश्वर इस संसार के सभी राष्ट्रों को नष्ट करने जा रहा है? लेकिन कृपया चिंता न करें. कुछ धार्मिक शिक्षक आपको यह विश्वास दिलाएँगे कि यह अभी पांच मिनटों में होने जा रहा है.

लेकिन आप विश्वास करें कि ऐसा कुछ भी नहीं है. हम अपने अध्ययन में इस मिथ्या शिक्षा को मिटाते जाएँगे जोकि आपके और आपके मित्रो के लिए आश्चर्य करने का कारण होगा. प्रभु यीशु ने कहा कि पृथ्वी पर उसके राज्य के आने के पूर्व कुछ विशेष बातें घटित होंगी, बहुत स्पष्ट चिन्ह, और चेतावनी और हम इन बिन्दुओ का अध्ययन करने जा रहे हैं.

लेकिन सबसे अच्छा तरीका कि आप भयभीत न हों वह यह है यदि आप न जानते हों तो कि आप पृथ्वी पर आने वाले परमेश्वर के राज्य का भाग होने के लिए आमंत्रित हैं. और वह आपके हृदय में अभी इसी समय अपना राज्य स्थापित करने के लिए इच्छुक है. और उसने एक समय कहा है “मैं तुमको नया मन दूंगा, और तुम्हारे भीतर नई आत्मा उत्पन्न करूंगा, और तुम्हे देह में से पत्थर का हृदय निकलकर तुमको मांस का हृदय दूंगा.” (यहेजकेल ३६:२६)

यह हल और उत्तर है. आप उस राज्य को जो आने वाला है अपने हृदय में अभी इसी समय प्राप्त कर सकते हैं और यह वह सदा के लिय स्थिर रहेगा. आइये आप मेरे साथ एक छोटी सी प्रार्थना करें.

“प्रिय यीशु, मैं तेरे राज्य का जो अभी है और जो आने वाला है का एक भाग होना चाहता हूँ. कृपया मेरे हृदय में आइये. मेरे पापों और पत्थर के हृदय को ले लीजिये और जैसा कि आपने वादा किया है मुझे एक नया हृदय और आत्मा दीजिये ताकि मैं आपको और आपके लोगों को प्रेम करते हुए अनन्तकाल तक रह सकूँ.”

यदि अपने यह प्रार्थना कर ली है तो उसने यह कर लिया है. उसने वादा क्या है और वह निश्चित पूरा करेगा.

अपने अगले अध्ययन में हम दानिएल के साथ आगे जाएँगे लेकिन जवान दानिएल के साथ नहीं. जैसा कि अभी हमने अध्ययन किया नबुकद्नेसर के साथ अदभुत मुलाकात के बाद वह अपने वयस्क जीवन में बेबीलोन के सम्राज्य में एक ऊँचे पद पर रहा. Daniel writing at desk4blog siteऔर जैसे जैसे उसकी वृद्धा अवस्था आने लगी उसे स्वत:  ही स्वप्नों और आत्मिक अनुभवों के द्वारा ज्ञान प्राप्त होने लगा जोकि सम्पूर्ण बाइबिल में आश्चर्यचकित कर देने वाले थे. आगे हम दानिएल कि पुस्तक के ७ वे अध्याय का अध्ययन करेंगे. यदि अपने दानिएल के २ रे अध्याय के अध्ययन में रूचि पाई है तो मैं आशा करता हूँ कि अगला अध्ययन आपको और अधिक रुचिकर लगेगा.

परमेश्वर आपको आशीष दे!